विश्व क्षय दिवस पर राष्ट्रीय टीबी उन्मूलन कार्यक्रम


अंबिकापुर। पिरामल स्वास्थ्य सरगुजा द्वारा विश्व क्षय दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. पीएस सिसोदिया और जिला क्षय अधिकारी ने कैंपेन बोर्ड पर अपना हस्ताक्षर कर कार्यक्रम की शुरुआत की। जिला कार्यक्रम अधिकारी महेन्द्र कुमार तिवारी ने पदाधिकारियों से भी सिग्नेचर कैंपेन बोर्ड पर हस्ताक्षर कराए। बतौली विकासखंड के बीएमओ डॉ.संतोष सिंह व सभी कर्मचारियों ने भी इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया। पिरामल स्वास्थ्य की जिला कार्यक्रम समन्वयक सरस्वती विश्वकर्मा द्वारा अपने संदेश में कहा कि क्षय रोग से संबंधित व्यक्ति को किसी प्रकार की समस्या हो तो वह अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र या जिला अस्पताल में जाकर अपना इलाज करा सकते हैं व ऐसे पीडि़तों की मदद कर सकते हैं। जिला क्षय अधिकारी डॉ. शैलेन्द्र गुप्ता ने विश्व क्षय दिवस पर टीबी से जुड़ी विभिन्न प्रकार की जानकारियों को साझा किया। देश और अपने शहर को टीबी मुक्त बनाने के लिए उन्होंने कहा कि हम अपने काम को अपनी आजीविका का साधन ना समझें बल्कि सामाजिक और व्यक्तिगत रूप से अपनी जिम्मेदारी समझकर करें, तो हम अपने कार्य को बेहतर ढंग से कर सकेंगे। उन्होंने बताया सरगुजा में टीबी के एक्टिव मरीज 10 हैं। एक मरीज लगभग 10 से 20 व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है। उन्होंने कहा विश्व क्षय दिवस, 24 मार्च का दिन हम सबके लिए उत्साह का दिन है, जिसे त्योहार के जैसे हर साल मनाते हैं। अलग-अलग कार्यक्रम कर समाज में जन-जागरूकता अभियान चलाने का संदेश देते हैं। क्षय अधिकारी ने सभी कर्मचारियों को शपथ ग्रहण कराया। पिरामल स्वास्थ्य के जिला कार्यक्रम अधिकारी महेन्द्र कुमार तिवारी नेे कार्यक्रम को संबोधित करते हुए बताया कि यह जेनेटिक बीमारी नहीं है। टीबी का बैक्टीरिया तब संक्रमित करता है जब शरीर में इम्युनिटी कम होती है, इसलिए खानपान में पोषक तत्वों की कमी न होने दें। टीबी किसी भी इंसान को हो सकता है। खानपान में हाई प्रोटीन, न्यूट्रीशियन डाइट और एक्सरसाइज से इम्युनिटी बढ़ाकर इसका खतरा कम कर सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *